Wednesday, April 16, 2008

ghalib

गो हाथ को जुम्बिश नहीं आन्हों में तो दम है
रहने दो अभी सागहर-ओ-मीना मेरे आगे

No comments:

Post a Comment