Monday, October 01, 2012

Threads of time

तेरी राहें सजाने के लिए जो काम आ गयी 
शबनम वो बचा के रखी थी हिज्र-ऐ-आबशार को